आतंक की ज़हरीली साज़िश कब तक बर्दाश्त करेगा हिंदुस्तान 5206

Pulawama attacks aftermath

300 किलो विस्फोटक से भरी कार ने कल दोपहर पुलवामा-श्रीनगर में CRPF के काफ़िले से टक्कर मारकर 40 जवानों को शहीद कर दिया जिससे देश भर में गुस्सा और शोक का माहौल बना हुआ है और देश की सरकार से तीखे सवाल पूछे जा रहे हैं  

पुलवामा आतंकी हमले के बाद कल February 14, 2019 से TV चैनलों पर चल रही कुछ हेडलाइंस पर नज़र डालिये:

* 40 शहीदों का बदला लो

* जवानों की शहादत का बदला कब

* पुलवामा का उरी जैसा बदला लेना होगा

* खून के बदले खून…गोली के बदले गोली  

* अब की बार आतंक का सम्पूर्ण संहार

* ये आतंकी हमला नहीं, देश के ख़िलाफ़ युद्ध है

* सबसे बड़े हमले पर सरकार को देना होगा जवाब

* दर्द बेहिसाब, आँसू मांगे हिसाब

* याचना नहीं रण होगा, संघर्ष बड़ा भीषण होगा

* पाकिस्तान से बात नहीं, बदला लो

* पाकिस्तान का एक हिसाब, मुंहतोड़ जवाब   

श्रीनगर से 31 किलोमीटर दूर पुलवामा के लेथपोरा इलाके में कल 3.15 pm दोपहर हुए आतंकी हमले को देश में होने वाला सबसे बड़ा आत्मघाती हमला माना जा रहा है। कल से TV चैनलों पर चल रही ऐसी हेडलाइंस देश का गुस्सा बयान कर रही हैं। जनता की आवाज़ उठाते हुए सभी मीडिया के प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक चैनल देश की सरकार से जवाब तलब कर रहे हैं।

सुलगते सवाल

1. काफ़िले की ख़बर: पाकिस्तानी आतंकी संघटन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की ज़िम्मेदारी ली है।  इस आत्मघाती हमले को जैश के आदिल अहमद डार उर्फ़ वकास कमांडो ने अंजाम दिया।  सवाल ये है कि आतंकियों को CRPF काफ़िले के गुज़रने की ख़बर पहले से कैसे थी ?

2. गाड़ी पर निशाना: केंद्रीय ख़ुफ़िया एजेंसियों की माने तो 8 February को ही उन्होंने एक बड़े IED ब्लास्ट का अलर्ट जारी किया था और कार से हमले की आशंका जताई थी। सवाल ये है की 2,547 जवानों को लेकर जम्मू से श्रीनगर जा रहे 78 वाहनों के काफ़िले में आतंकी ने उसी गाड़ी को निशाना कैसे बनाया जिसमें सबसे ज़्यादा जवान थे? इस तरह की जानकारी आतंकियों के पास कैसे थी?   

3 . लापरवाही क्यों: जम्मू – कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने बयान दिया है की चार महीने से भारत सरकार ने कई आतंकियों का सफ़ाया किया है।  इस वजह से आतंकियों पर दबाव था पाकिस्तान के द्वारा की वो कोई बड़ी घटना को अंजाम दें। सूचना होने के बावजूद उसका सही संज्ञान नहीं लिया गया। सवाल ये है कि ऐसी सूचनाएं जो इंटेलिजेंस द्वारा उपलब्ध कराई जाती हैं उनको पूरी गंभीरता से क्यों नहीं लिया गया?  

4. काफ़िले की डिटेल : पुलवामा में हुए विस्फोट की आवाज़ दस किलोमीटर दूर तक महसूस की गयी। सवाल ये है कि आतंकियों ने वहां हमला किया जहाँ चढ़ाई पर एक मोड़ है और काफ़िला धीमा होता है, तो इस काफ़िले के रुट और टाइम के बारे में आतंकियों को कैसे पता था?

5 . सिर्फ़ कड़ी निंदा: सवाल ये है कि भारतीय जवानों पर हुए इस भीषण हमले पर देश को सिर्फ़ बयानबाज़ी ही सुनने को मिलेगी या सरकार द्वारा कोई ठोस कदम भी देखने को मिलेगा जिससे पाकिस्तान की सरपरस्ती में पनप रहे ऐसे आतंकी संगठनों के होश ठिकाने आएं ?     

यूपी के शहीद

पुलवामा हमले में शहीद होने वाले 12 CRPF जवान यूपी के हैं। यूपी पुलिस के सभी थानों में 2 मिनट की शोक श्रद्धांजली मनायी गयी है।

पीएम मोदी का प्रहार

आज 11 बजे नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर हुए वनदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाने के कार्यक्रम में प्रस्तुत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुलवामा हमले को लेकर पाकिस्तान को आड़े हाथों लिया और उस पर तगड़ा प्रहार किया। उन्होंने कड़ी चेतावनी देते हुए कहा: “मैं समझ रहा हूँ देश का खून खौल रहा है। शहीदों के परिवारों के साथ पूरा देश खड़ा है। हम जीतने की लड़ाई लड़ रहे हैं। पड़ोसी देश के मंसूबे कभी कामयाब नहीं होंगे। आतंकी बड़ी कीमत चुकाएंगे।”

सरकार का एक्शन

आज हुई एक हाई-लेवल बैठक में सरकार ने फैसला लिया और पाकिस्तान को दिया हुआ MFN (मोस्ट फ़ेवर्ड  नेशन) का स्टेटस वापस ले लिया है। इससे पाकिस्तान का भारत के साथ 2 .6 बिलियन डॉलर का व्यापार ध्वंस्त हो सकता है।

अब देखना ये है की अगले 48 घंटों में भारत सरकार किस तरह के कदम उठाती है जिससे पाकिस्तान-समर्थित आतंकियों के इस बर्बर, कायराना और शर्मनाक हमले को सही जवाब मिले।

——————————————————————-

Previous ArticleNext Article

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *